शनिवार, 28 अक्तूबर 2017

दुर्ग (छत्तीसगढ) : यहां संस्कृत होगी बोलचाल की भाषा, ऐसे हो रहे प्रयास !

दुर्ग (छत्तीसगढ) : यहां संस्कृत होगी बोलचाल की भाषाऐसे हो रहे प्रयास !

                      देवभाषा संस्कृत को बढावा देनेवाले संस्कृत विद्यामंडलम् तथा छत्तीसगढ सरकार का अभिनंदन ! भारत के अन्य राज्य भी इनका अनुकरण करेयही हिन्दूआें की अपेक्षा है । – संपादकहिन्दूजागृति

                      दुर्गभिलाई : अब वह दिन दूर नहीं जब लोग बोलचाल की भाषा में संस्कृत का इस्तेमाल करेंगे ! संस्कृत को आम भाषा बनाने के लिए दुर्ग जिले में २० जनभाषा केन्द्र खोले जा रहे है। प्रदेश में दुर्ग जिले में इसकी शुरुआत पहली बार की जा रही है !
संस्कृत विद्यामंडलम्‌ और जिला शिक्षा विभाग ने इसे सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है। इस जनभाषा केन्द्र की कार्ययोजना जिला शिक्षा अधिकारी आशुतोष चावरे और संस्कृत विद्यामंडलम्‌ के सदस्य आचार्य नीलेश शर्मा ने तैयार की है। शिक्षामंत्री केदार कश्यप के समक्ष कार्य योजना का प्रस्ताव दिया गया था।
                     प्रस्ताव को मंत्री ने अनुशंसित कर विद्यामंडलम्‌ को भेजी। इन केन्द्रों में दुर्ग जिला शिक्षा विभाग के संस्कृत विषय विशेषज्ञ शिक्षकों की खास भूमिका रहेगी। दुर्ग जिले के १८६ संस्कृत शिक्षकों में से ऐसे २२ शिक्षकों का चयन किया गया हैजिन्हें संस्कृत में महारत हासिल है। खास बात यह है कि ये शिक्षक समाजसेवी के रूप में जनभाषा केन्द्र का संचालन करेंगे और कोई शुल्क नहीं लेंगे।

आगच्छतुउपविशतु जैसे बोलचाल की होगी भाषा
                 जनभाषा केन्द्र में बोलचाल की भाषा इस तरह लोगों को सिखाई जाएगी। मसलन आइए को आगच्छतु कहेंगे। बैठिए को उपविशतुनमस्कार को नमोनमःधन्यवाद को धन्यवादःखाईए को खादतुग्रहण कीजिए को स्वीकारयतु जैसे बोलचाल भाषा होगी।
आसपास के बच्चेयुवा हो या कोई भी व्यक्ति उन्हें इस केन्द्र से जोड़ेंगे और संस्कृत के ऐसे ही शब्दों की सीख देंगे। जनभाषा केन्द्र गांवों और बस्तियों में शुरू की जा रही है। यहां किसी भी सार्वजनिक भवन में यह केन्द्र हर दिन शाम को दो से तीन घंटे चलेगा।
चयनित संस्कृत शिक्षक इन केन्द्रों को ऐसे युवक के सौंप देंगे जो इसका नियमित व बेहतर संचालन आगे करता रहे। संस्कृत शिक्षक फिर दूसरी जगह केन्द्र शुरू करेंगे। यह सतत प्रक्रिया चलती रहेगी और लोगों के बीच इस तरह संस्कृत प्रचलन में आता रहेगा।

इन स्थानों पर संस्कृत जनभाषा केन्द्र
                 तिलक स्कूल दुर्गबोरईखुर्सीपाररिसाली भिलाईबोरसी दुर्गवैशालीनगर भिलाईमेड़ेसराजामुलअंजोराखकुरूदसेलूदजामगांव आरखुड़मुड़ीजामगांव एमभनसुलीबिरेझरबोरीरानीतराईओदरहागहनखपरीलिटिया में संस्कृत जनभाषा केंद्र खुलेंगे।
जनभाषा केन्द्र खुलने से होंगे और भी फायदे
१.     ग्यारहवी और बारहवी में संस्कृत वैकल्पिक विषय होने के बाद दसवीं उत्तीर्ण ७० प्रतिशत बच्चे यह विषय छोड़ देते हैं !
२.     वर्तमान में दुर्ग जिले में ६ शासकीय संस्कृत विद्यालय चल रहे है। जहां वर्तमान में ३८५ विद्यार्थी पढ़ते हैं !
३.     छठवी से दसवीं तक सभी विद्यार्थी संस्कृत विषय अनिवार्य रूप से पढ़ रहे है। जिले में करीब एक लाख विद्यार्थी इस विषय को पढ़ रहे है !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें