बुधवार, 2 नवंबर 2016

तृतीया विभक्ति का ज्ञान

तृतीया  विभक्ति 

१.सह, सार्धं, साकं - साथ
सीता रामेण सह वनं गच्छति
सीता राम के साथ वन जाती है

२.समं - समान
त्वया समं कोपि सुन्दरम् नास्ति
तुम्हारे समान कोई भी सुंदर नहीं है

३.अलं - मत
अलं कार्येण
काम मत करो

४.अंग विकार की स्थिति में
सीमा पादेन खंजः।
सीमा पैर से लंगड़ी है।

मंथरा चक्शुन्न काणः।
मंथरा आँख से कानी थी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें