शुक्रवार, 11 मार्च 2016

न्यूजीलैंड में बना विशेष नियम- अंग्रेजी सीखनी हो तो संस्कृत सीखें।

                            न्यूजीलैंड के एक स्कूल में संसार के विशेषतः भारत की इस महान भाषा को सम्मान मिल रहा है। न्यूजीलैंड के इस स्कूल में बच्चों को अंग्रेजी सिखाने के लिए संस्कृत पढ़ाई जा रही है। फिकिनो नामक इस स्कूल का कहना है कि संस्कृत से बच्चों में सीखने की छमता बहुत बढ़ जाती है। न्यूजीलैंड के शहर आकलैंड के माउंट इडेन इलाके में स्थित इस स्कूल में लड़के और लड़कियाँ दोनों को शिक्षा दी जाती है। १६ वर्ष तक की उम्र तक यहाँ बच्चों को शिक्षा दी जाती है। इस स्कूल का कहना है कि इसकी पढ़ाई मानव मूल्यों, मानवता और आदर्शों पर आधारित है। अमेरिका के हिंदू नेता राजन जेड ने पाठ्यक्रम में संस्कृत को शामिल करने पर फिकिनो की तारीफ की है। फिकिनो में अत्याधुनिक साउंड सिस्टम लगाया गया है। जिससे बच्चों को कुछ भी सीखने में आसानी रहती है। स्कूल के प्रिंसिपल पीटर क्राम्पटन कहते हैं कि १९९७ में स्थापित इस स्कूल में नए तरह के विषय रखे गए हैं। जैसे दिमाग के लिए भोजन, शरीर के लिए भोजन, अध्यात्म के लिए भोजन। इस स्कूल में अंग्रेजी, इतिहास, गणित और प्रकृति के विषयों की भी पढ़ाई कराई जाती है। पीटर क्राम्पटन कहते हैं संस्कृत ही एक मात्र ऐसी भाषा है जो व्याकरण और उच्चारण के लिए सबसे शेष्ट है। उनके अनुसार संस्कृत के जरिए बच्चों में अच्छी अंग्रेजी सीखने का आधार मिल जाता है। संस्कृत से बच्चों में अच्छी अंग्रेजी बोलने, समझने की क्षमता विकसित होती है। पीटर क्राम्पटन कहते हैं कि दुनिया की कोई भी भाषा सीखने के लिए संस्कृत भाषा आधार का काम करती है। इस स्कूल के बच्चे संस्कृत पढ़ कर बहुत खुश हैं। इस स्कूल में दो चरणों में शिक्षा दी जाती है। पहले चरण में दस वर्ष की उम्र तक के बच्चे और दूसरे चरण १६ वर्ष तक उम्र के बच्चों को शिक्षा दी जाती है। पीटर क्राम्पटन कहते हैं इस स्कूल में बच्चों को दाखिला दिलानेवाला हर अभिभावक का यह प्रश्न अवश्य होता है कि आप संस्कृत क्यों पढ़ाते हैं? हम उन्हें बताते हैं कि यह भाषा श्रेष्ठ है। दुनिया की महानतम रचनाएँ इसी भाषा में लिखी गई हैं। अमेरिका के हिंदू नेता राजन जेड ने कहा है कि संस्कृत को सही स्थान दिलाने की आवश्यकता है। उन्होंने भारत सरकार की आलोचना की और कहा कि भारत सरकार इस भाषा को बढ़ावा देने के लिए कुछ नहीं कर रही है। कहा हिंदू धर्म के अलावा बौद्ध और जैन धर्म के तमाम ग्रंथ संस्कृत में लिखे गए हैं। उन्होंने गांधीजी का जिक्र किया। गांधीजी ने कहा था कि बिना संस्कृत सीखे कोई विद्वान नहीं हो सकता। ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें